Advertisements

बारिश

हाँ इन हवाओँ के दामन में आज नमी सी है,
चारो और घना अंधेरा,ना रंग हैं ना रोशनी हैं
बनकर बारिश आज तू….आ बरस जा फिर से
कर दे जिंदा फिर से, धड़कन ये, जो रुकी सी है।

©aaditsays

ज़रा मुश्किल है तेरे एहसास को लफ़्ज़ों में कह पाना..

ज़रा मुश्किल है तेरे एहसास को लफ़्ज़ों में कह पाना,
जैसे राही को मिल जाये मंज़िल, बाकी तुम समझ जाना।

©aaditsays